Vidisha राष्ट्र सेविका समिति द्वारा वृहद मातृशक्ति एकत्रीकरण एवं शाखा दर्शन कार्यक्रम

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ विदिशा रमाकांत उपाध्याय/ 

स्वाधीनता का अमृतमहोत्सव भारतवर्ष की स्वाधीनता के ७५ वे वर्ष अर्थात अमृतमहोत्सव के रुप में अपने ज्ञात-अज्ञात हुतात्माओं के पुण्यस्मरण के रुप में विभिन्न आयोजनों के रुप में मनाया जाना है। अगहन (मार्गशीर्ष) कृष्ण द्वादशी ०१ दिसंबर को राष्ट्र सेविका समिति की संस्थापिका आद्य प्रधान संचालिका वं. लक्ष्मीबाई केलकर उपाख्य मौसीजी का पुण्यस्मरण दिवस के अवसर पर राष्ट्र सेविका समिति विदिशा द्वारा वृहद मातृशक्ति एकत्रीकरण एवं शाखा दर्शन कार्यक्रम परिणय गार्डन बरईपुरा विदिशा में संपन्न हुआ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रीमती शालिनी राणा द्वारा की गई उन्होंने अपने वक्तव्य में वंदनीय मौसीजी का उदाहरण देते हुए आज के समय में नारी की देश और समाज के प्रति क्या जिम्मेदारी होनी चाहिए ? यह बताया।

जिला कार्यवाहिका रश्मि ताम्रकार ने भूमिका परिचय और मौसी के चरित्र पर विस्तृत जानकारी दी एवं मुख्य वक्ता विभाग कार्यवाहिका डॉक्टर पिंकेश लता रघुवंशी स्वाधीनता के 75 वर्ष अमृत महोत्सव एवं स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने वाले वीरांगनाओं पर जानकारी दी।

यह जानकारी जिलाकार्यवाहिक एवम् नगर कार्यवाहिका द्वारा दी गई ।