Vidisha मध्यप्रदेश देश का पहला पहला राज्य जहाँ चिकित्सा शिक्षा की पढ़ाई हिन्दी में कराई जाएगी : प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित किया,

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ विदिशा मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय / 9893909059

मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य होगा जो शीघ्र ही चिकित्सा शिक्षा की पढ़ाई हिन्दी में प्रारंभ कराएगा। उक्त आशय के विचार प्रदेश के चिकित्सा, शिक्षा, मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने मंगलवार को विदिशा में आयोजित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरान व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि विश्व के कई देश चिकित्सा के क्षेत्र में टॉप-5 में है जिसका कारण है कि वहां मेडिकल की पढ़ाई मातृभाषा में कराई जाती है। उन्होंने मेडिकल चिकित्सा के फाउण्डेशन कोर्स में मूल्य आधारित देश की महान विभूतियों के जीवन पाठ्यक्रम को सम्मिलित कर अध्यापन कार्य कराए जाने पर भी गहन प्रकाश डाला है।

प्रभारी मंत्री श्री सारंग ने कहा कि अंतराष्ट्रीय महिला दिवस एक विचार नहीं दर्शन है। महिलाएं सशक्ति हैं का संदेश भारतवर्ष में अनादिकाल से प्रचलित है। महिलाएं समाज विकास की धूरि हैं। उन्होंने बच्चों की प्रारंभिक शिक्षा प्राप्ति के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से संपादित किए जाने वाले कार्यों में सुगमता हो के लिए प्रारंभित बाल्यावस्था देखभाल और शिक्षा ईसीसीई के विभिन्न उपबंधों को रेखांकित किया।

कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने कहा कि बच्चों का सही निर्माण ही आंगनबाड़ी की प्रथम कड़ी है। अतः विभागीय अमला सुव्यवस्थित रूप से प्रशिक्षित हो। इन्हीं उद्देश्यों से यह प्रशिक्षण आयोजित किया गया है। कार्यक्रम को विद्याभारती मध्यक्षेत्र के विभिन्न पदाधिकारियों ने भी सम्बोधित किया।

विमोचन-

प्रभारी मंत्री श्री सारंग सहित अन्य अतिथियों के द्वारा आयोजन स्थल पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल और शिक्षा (ईसीसीई) आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मार्गदर्शन हेतु तैयार पुस्तिका का विमोचन किया।

प्रदर्शनी

प्रभारी मंत्री विश्वास कैलाश सारंग सहित अन्य अतिथियों के द्वारा प्रारंभिक बाल्यावस्था शिक्षा को बढ़ावा देने पर आधारित विभिन्न विधाओं से प्रशिक्षणार्थियों को सुगमता से अवगत कराने हेतु प्रशिक्षण स्थल आशीष मंगल वाटिका में आयोजित प्रदर्शनी का दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ कर प्रदर्शनी का अवलोकन किया है।

कार्यक्रम में माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल की उपाध्यक्ष डॉ श्रीमती रमा मिश्रा, टास्क फोर्स स्कूल शिक्षा विभाग की सदस्य सुश्री रेखा चूड़ासमा के अलावा अन्य जनप्रतिनिधि, सदस्य, पुलिस अधीक्षक डॉ मोनिका शुक्ला तथा महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी कर्मचारी व प्रशिक्षणार्थी उपस्थित रहे।

 

यूक्रेन से विदिशा लौटे छात्रों से प्रभारी मंत्री ने किया संवाद

शासकीय कन्या अग्रणी महाविद्यालय में में आयोजित प्रदर्शनी सृजन कार्यक्रम के उपरांत विदिशा चिकित्सा, शिक्षा मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कन्या महाविद्यालय में यूक्रेन से सकुशल विदिशा लौटे छात्र-छात्राओं का स्वागत किया। प्रभारी मंत्री श्री सारंग ने सभी चारों छात्र-छात्राओं हर्षित दुबे, अंशुल देशमुख, सृष्टि विल्सन, रचित राय, उर्वी शर्मा व उनके परिजनों से संवाद स्थापित किया।

सभी छात्रों ने एक-एक कर प्रभारी मंत्री जी को यूक्रेन से विदिशा अपने घर वापसी के संस्मरणों को सांझा किया है। वापिस आए सभी विद्यार्थियों का एकमत राय थी कि प्रधानमंत्री जी और मुख्यमंत्री जी द्वारा वापसी के लिए किए गए प्रबंधों से हम सब घर वापिस आए हैं उन्होंने सभी के प्रति साधुवाद व्यक्त किया है।

प्रभारी मंत्री श्री सारंग ने यूक्रेन से वापिस आए विद्यार्थियों से हास परिहास संवाद के दौरान वहां की चिकित्सा शिक्षा के प्रबंध, रहने-खाने की व्यवस्था के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने सभी विद्यार्थियों से कहा कि वे एक-दूसरे से संपर्क बनाए रखें। विद्यार्थियों के द्वारा मेडिकल कॉलेज में अध्यापन कार्य के संबंध में अपनी मांग रखी। ततसंबंध में शीघ्र ही शासन स्तर पर निर्णय लेकर इस सुविधा से लाभान्वित कराया जाने से आश्वस्त कराया। अग्रणी शासकीय कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य कक्ष में इस अवसर पर जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति के सदस्य डॉ राकेश जादौन, मुकेश टण्डन के अलावा कलेक्टर उमाशंकर भार्गव, पुलिस अधीक्षक डॉ मोनिका शुक्ला, महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ मंजू जैन सहित महाविद्यालय के अन्य प्राध्यापकगण, गणमान्य नागरिक मौजूद रहे।