शिक्षकों के सम्मान की रक्षा करना समाज के प्रत्येक व्यक्ति का नैतिक कर्तव्य है।

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ सिरोंज रमाकांत उपाध्याय/ 

पूर्व राष्ट्रपति,भारत रत्न सर्वपल्ली डॉ.राधाकृष्णन के जन्मदिवस पर आज आदर्श शिक्षक पंडित चंद्रमोहन शर्मा स्मृति शिक्षक सम्मान समारोह स्व निवास गणेश की अथाईं मैं संपन्न हुआ।

 स्वर्गीय श्री लक्ष्मीकांत शर्मा स्मृति लोक कल्याण न्यास द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक उमाकांत शर्मा व परिजनों ने सिरोंज तहसील के इस वर्ष हुए सेवानिवृत्त वरिष्ठ शिक्षकों का स्वागत एवं सम्मान किया।

इस अवसर पर सिरोंज विधायक उमाकांत जी शर्मा ने कहा कि विश्व में नैतिक मूल्यों की स्थापना हेतु शिक्षकों का योगदान अति महत्वपूर्ण होता है। जिन्हें हमारी संस्कृति में गुरु कहा गया है। रचनात्मक अभिव्यक्ति ओर ज्ञान में प्रसन्नता जगाना शिक्षक की सर्वोच्च कला है।

एक औसत दर्जे का शिक्षक बताता है। एक अच्छा शिक्षक समझाता है और एक बेहतर शिक्षक करके दिखता है और एक महान शिक्षक प्रेरित करता है।शिक्षकों के सम्मान की रक्षा करना समाज के प्रत्येक व्यक्ति का नैतिक कर्तव्य है।