32500 ग्रामीणों को मिला संपत्ति का मालिकाना हक

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ग्यारसपुर रमाकांत उपाध्याय/

गांव की आबादी भूमि पर दशकों से काबिज लोगो को सम्पत्ति का मालिकाना हक व कानूनी अधिकार पत्र प्रदाय करने का  जिला स्तरीय कार्यक्रम ग्यारसपुर तहसील प्रागंण में आयोजित किया गया था। उक्त कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा हितग्राहियों को प्रतीक स्वरूप अधिकार पत्रों का तथा शासकीय योजनाओं के तहत आर्थिक सहायता स्वीकृति पत्र प्रदाय किए गए है। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा कन्यापूजन कर किया गया।

                जिला स्तरीय कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कुरवाई विधायक  हरिसिंह सप्रे ने कहा कि टपरियों में रहने वालो को अब हटने के भय से मुक्त हुए है। मुख्यमंत्री जी ने गरीबो के हितो में अनेक योजनाएं चलाई है जिसका लाभ उन तक त्वरित पहुंचे यह हमारा नैतिक दायित्व है।

                सिरोंज विधायक उमाकांत शर्मा ने कहा कि गरीबो की निरंतर भलाई करने वाले प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री ने ग्रामीण आबादी सम्पत्ति सर्वेक्षण अभियान से जो दस्तावेंज मिला है निश्चित ही उससे स्थानीय रहवासी अब भय मुक्त हुए है। मुख्यमंत्री जी ने गांव की समस्याएं गांव में ही हल हो के लिए आबादी को जो अधिकार दिया है उसके पीछे मंशा यही है कि सभी सुखी रहें।

                बासौदा विधायक श्रीमती लीना जैन ने प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि गरीबो को मूलभूत सुविधा आवास, बिजली, स्वच्छ पेयजल, की आपूर्ति सुनिश्चित कराने में मध्यप्रदेश राज्य अव्वल है।

                प्रधानमंत्री जी ने गरीबो के हितार्थ हेतु अनेक योजनाएं संचालित की है जिसमें पीएम जन-धन योजना से अब हितग्राहियों को राशि प्राप्ति में किसी भी प्रकार की बाधा नही होती है और ना ही कहीं कोई गड़बड हो पाती है उन्होंने किसानो के लिए,  गरीबो के इलाज के लिए तथा गांवो को सडकों से जोडने के लिए जो नवाचार किया है उससे अब हर गांव सड़कों से जुडा है। निश्चित ही आवागमन में सहूलियत हुई है वही गांव के विकास में सडको का भी योगदान है।

                वर्षो से रह रहें उस जगह का स्वामी बनना निश्चित ही सपनो का पूरा होना जैसा है। अधिकार अभिलेख मिलने से भय की शंका से मुक्ति मिली है वहीं स्वरोजगार के क्षेत्र में वित्त पोषण के लिए तथा अन्य व्यक्तिगत ऋण के लिए उपरोक्त दस्तावेंज मान्य होंगे।

                जिला पंचायत अध्यक्ष तोरण सिंह दांगी ने कहा कि वर्षो से रह रहे पुराने मकानो के सरकारी हकनामा मिल जाने से अन्य योजनाओं के लाभ का द्धार खुला है। कार्यक्रम को शमशाबाद विधायक श्रीमती राजश्री सिंह तथा विदिशा विधायक श्री शशांक भार्गव, विदिशा नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन ने भी सम्बोधित किया।

                कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने ग्रामीण आबादी सम्पत्ति सर्वेक्षण अभियान की रूपरेखा व उद्धेश्यों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि विदिशा जिले की, ग्यारसपुर, गुलाबगंज, त्योंदा, कुरवाई तहसील के 32500 हितग्राहियों को शासन के मापदण्डानुसार आपकी संपत्ति के अधिकार का सरकारी दस्तावेंज प्रदाय किए गए है। इन दस्तावेंजो का लाभ हितग्राहियों को शासकीय योजनाओं से लाभ लेने के अलावा बैंको से ऋण लेने सहित अन्य जनहितैषी प्रायोजनों में किया जा सकेगा।

                कलेक्टर श्री भार्गव ने बताया कि विदिशा जिले में पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में ग्रामीण आबादी सम्पत्ति सर्वेक्षण का क्रियान्वयन किया गया है नक्शे व आधार पर मालिकाना हक प्रदाय किया गया है। अभियान के तहत आबादी क्षेत्रों में संपत्ति सर्वेक्षण का कार्य ड्रोन सर्वेक्षण से किया गया है इससे पूर्व तैयारियों तथा स्थानीय रहवासियों को विश्वास में लिया गया है। उन्होंने पात्रता, घर-घर जाकर सर्वेक्षण, दावा आपत्ति, योजना से ग्राम पंचायत को लाभ, योजनाओं से ग्रामवासियों को होने वाला लाभ पर गहन प्रकाश डाला।

                कलेक्टर  उमाशंकर भार्गव ने  बताया कि विदिशा जिले में कुल 1530 ग्रामो में स्वामित्व योजना का कार्य किया जाना है। पांच अक्टूबर तक की स्थिति में जिले में कुल 572 ग्रामो में आबादी के सर्वे हेतु ड्रोन फ्लाई पूर्ण हुआ है। विदिशा जिले में कुल 311 ग्राम का प्रथम प्रकाशन पूर्ण कर लिया गया है एवं 302 ग्रामो का अंतिम प्रकाशन पूर्ण किया जा चुका है। अंतिम प्रकाशन पूर्ण ग्रामो में से लगभग 290 ग्रामो के अधिकार अभिलेख तैयार किए जा चुके है। इन हितग्राहियें को आज कार्यक्रम में अधिकार अभिलेख का वितरण किया गया है।

काउंटरो से वितरण

                ग्रामीण आबादी सम्पत्ति सर्वेक्षण अभियान के तहत पीएम स्वामित्व योजना के तहत जिले में आबादी भूमि के अधिकार अभिलेख जिन हितग्राहियों को स्वीकृत किए गए है उनके वितरण हेतु ग्यारसपुर तहसील प्रागंण में ही तहसीलवार काउंटर बनाए गए थे ताकि उन्हें अपनी सम्पत्ति के अधिकार का सरकारी दस्तावेंज प्राप्ति में किसी भी प्रकार कर अवरोध ना हो सकें।

स्वास्थ्य परीक्षण

                आयोजन स्थल पर स्वास्थ्य विभाग के द्वारा स्वास्थ्य उपचार शिविर का आयोजन किया गया था। चिकित्सकों द्वारा मौके पर 156 व्यक्तियों का स्वास्थ्य का परीक्षण किया गया जिसमें से परीक्षण कर उन्हें रोगोपचार दवाईयां निःशुल्क प्रदाय की गई है। 61 मरीजो की शारीरिक जांच भी चिकित्सकों द्वारा की गई है।

                उपरोक्त कार्यक्रम में भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ राकेश जादौन, ग्यारसपुर जनपद पंचायत के पूर्व अध्यक्ष छत्रपाल शर्मा के अलावा अन्य जनप्रतिनिधिगण, गणमान्य नागरिक, हितग्राहियों के अलावा विभिन्न विभागो के अधिकारी, कर्मचारी मोजूद रहें। आगंतुको के प्रति आभार जिला पंचायत सीईओ डॉ योगेश भरसट ने व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती दीप्ति शुक्ला ने किया।