आत्मा को परमात्मा से मिलाने वाला मार्ग ही सनातन धर्म – निधिदास जी

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ गंजबासौदा रमाकांत उपाध्याय/  

श्री सनातन धर्म सेवा समिति के तत्वावधान में लगातार 30 वे वर्ष में श्रीमद्भागवत गीता जयंती महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर पांच दिवसीय गीता जी पर श्री शीतला धाम परिसर में वृंदावन धाम से पधारे गीता मनीषी निधिदास जी महाराज द्वारा दोपहर 2 बजे से 5 बजे तक प्रवचन दिए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आत्मा और परमात्मा दोनों अजर अमर है अर्थात आत्मा को परमात्मा से मिलाने वाला मार्ग ही सनातन धर्म है। उन्होंने गीता के ज्ञान पर भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन के ऊपर व्याख्यान दिए और गीता जी के महत्व पर समझाया

भजन गायक कलाकार महेंद्र सिंह राजपूत, ढोलक प्रतीक दुबे, ऑक्टोपैड योगेंद्र सिंह राजपूत द्वारा संगीतमय भजनों की प्रस्तुतियां दी गई।

इस अवसर पर कांतिभाई शाह ,जगदीश बाबू महलवार, सुरेश कुमार तनवानी, शिव प्रसाद श्रीवास्तव ,गोपाल प्रसाद शर्मा ,योगेश अग्रवाल, भगवती प्रसाद श्रीवास्तव,
तेज नारायण श्रीवास्तव, के एन तिवारी ,मथुरा प्रसाद अग्रवाल, संगीता सोनी सहित कई भक्तजन और श्रद्धालु गण उपस्थित थे।
श्री शीतला शक्ति धाम प्रांगण में चल रही श्री गीता जयंती महोत्सव के इस वर्ष का यह आयोजन गुप्त श्रद्धालु भक्त की ओर से आयोजित किया गया है। यह जानकारी समाजसेवी सुरेश तनवानी द्वारा दी गई।