मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने वन क्लिक से 202.90 करोड़ की राहत राशि किसानों के खातों में की जमा

ओलावृष्टि से प्रभावित विदिशा जिले के 2570 किसानों के खातों में 5 करोड़ से अधिक राशि जमा हुई

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ विदिशा भोपाल मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय/9893909059

                मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने गुरूवार को प्रदेश में ओलावृष्टि, अतिवृष्टि से क्षति हुई फसलों की कुल 202.90 करोड़ की राहत राशि किसानों के बैंक खातों में वन क्लिक के माध्यम से जमा की गई है। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान ने कहा कि पीड़ित कृषकों को राहत राशि के अलावा बीमा राशि का भी शीघ्र वितरण किया जाएगा। उन्होंने पीड़ित कृषकों से संवाद कर ढांढस बंधाया है।

 

                मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज विदिशा जिले के लटेरी तहसील अंतर्गत जिन 18 गांव में ओलावृष्टि से फसल क्षति हुई थी। उन पीड़ित कृषकों को भी वन क्लिक के माध्यम से राशि जमा की है। एनआईसी के वीसी कक्ष में मुख्यमंत्री जी के लाइव उद्धोधन देखने सुनने हेतु शमशाबाद विधायक श्रीमती राजश्रीसिंह, बासौदा विधायक श्रीमती लीना जैन, जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति के सदस्य डॉ राकेश जादौन, मुकेश टण्डन, संदीप डोंगर के अलावा पीड़ित कृषकगण समेत कलेक्टर उमाशंकर भार्गव, अपर कलेक्टर वृन्दावनसिंह, डिप्टी कलेक्टर एवं राहत राशि प्रकोष्ठ की नोडल अधिकारी सुश्री अनुभा जैन के अलावा एनआईसी के डीआईओ एमएल अहिरवार, लटेरी तहसीलदार अजय शर्मा मौजूद रहे।

 

डेमो चेक प्रदाय-

                एनआईसी के वीसी कक्ष में लटेरी तहसील क्षेत्र के ग्राम उनारसी कला के तीन पीड़ित कृषक राजेश कुमार सेन, सुरेन्द्रसिंह यादव, विवेक जैन सहित प्रत्येक को एक लाख 20 हजार रूपए का और राजेन्द्र विश्वकर्मा को 60 हजार रूपए का जबकि ग्राम छोटी राघौगढ़ के कृषक मलखानसिंह यादव को जनप्रतिनिधियों के द्वारा एक लाख 20 हजार रूपए का डेमो चेक प्रदाय किया गया।

18 ग्रामों के 2570 किसानों के खातों में राशि 51727988 रूपए जमा हुए 

                मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा बुधवार को वन क्लिक के माध्यम से जिले के जिन पीड़ित कृषकों के बैंक खातों में राहत राशि जमा की गई है के संबंध में कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने बताया कि आज वन क्लिक के माध्यम से लटेरी तहसील के जिन 18 ग्रामों के पीड़ित कृषकों को राहत राशि उनके बैंक खातों में जमा कराई गई है। उनमें ग्राम चमरउमरिया के 43 कृषकों को 536109 रूपए, हैदरपुर के 81 कृषकों के खातों में 1550483 रूपए, मूडरारतनसी के 178 कृषकों के खातों में 1236942 रूपए, भीलवावड़ी के 59 कृषकों के खातों में 2574529 रूपए, राधोगढ़ के 44 कृषकों के खातों में 3221169 रूपए, चैपना नौआवाद के 74 कृषकों के खातों में 572095 रूपए, मुक्ताखेड़ा के 120 कृषकों के खातों में 2794039 रूपए, झूकरउमरिया के 72 कृषकों के खातों में 789346 रूपए, अम्हाई के 148 कृषकों के खातों में 2052147 रूपए, उनारसीकला के 495 कृषकों के खातों में 26872371 रूपए उमरियामीना के 150 कृषकों के खातों में 1008504 रूपए, बामोरी के 129 कृषकों के खातों में 1474742 रूपए, शेरगढ़ के 141 कृषकों के खातों में 672832 रूपए, वनारसी के 121 कृषकों के खातों में 2458975 रूपए, सालरा के 81 कृषकों के खातों में 720392 रूपए, मुनीमपुर के 126 कृषकों के खातों में 1425888 रूपए, महोटी के 241 कृषकों के खातों में 982060 रूपए तथा ग्राम वापचा के 267 कृषकों के खातों में 785365 रूपए की राशि जमा की गई है।

 

राहत राशि मिलने पर कृषकों ने धन्यवाद ज्ञापित किया

ओलावृष्टि से क्षति हुई फसलों की राहत राशि आज प्राप्त होने पर एनआईसी में मौजूद उनारसीकला ग्राम के पीड़ित कृषकों के चेहरों पर प्रसन्नता झलक रही थी। संकट की इस घड़ी में शासन प्रशासन के द्वारा शीघ्र मिली राहत राशि प्राप्ति के उपरांत मौजूद कृषकों ने मुख्यमंत्री सहित जिला प्रशासन के प्रति साधुवाद व्यक्त किया।
उनारसी कला के कृषक  राजेश कुमार सेन,  सुरेन्द्रसिंह यादव,  विवेक जैन,  राजेन्द्र विश्वकर्मा और ग्राम छोटी राघौगढ़ के कृषक मलखानसिंह यादव ने मुख्यमंत्री जी के प्रति आभार प्रकट करते हुए धन्यवाद दिया है। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान के प्रति धन्यवाद देते हुए ग्राम उनारसी कला के कृषक  सुरेन्द्रसिंह यादव ने जिला प्रशासन की टीम को भी धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा कि जहां रात्रि में ओलावृष्टि से फसलों को क्षति पहुंची थी। जिसकी सूचना मिलने पर दूसरे दिवस ही प्रातः काल विधायक, जनप्रतिनिधियों एवं कलेक्टर द्वारा क्षतिग्रस्त फसलों का जायजा लिया गया था। और आज गुरूवार को मुख्यमंत्री जी द्वारा राहत राशि का वितरण किया गया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी के वन क्लिक के  तुरंत बाद ही उन्हें सहायता राशि मिलने का मैसेज भी प्राप्त हुआ है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना
समायोजन कर बीमा की पूर्ण राशि लौटाने की प्रक्रिया क्रियान्वित
जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित विदिशा के सीईओ  विनय प्रकाशसिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांन्तर्गत खरीफ 2020 की क्लेम राशि बीमा कंपनी द्वारा सीधे कृषकों के खातों में जमा कराई जा रही है। चूंकि खरीफ ऋण चुकौती की ड्यू डैट खरीफ फसलों के बाजार में आने से लेकर अंतिम दिनांक 28 मार्च निर्धारित है। इस कारण उक्त राशि को कृषकों के द्वारा लिए गये कर्ज के विरूद्ध समायोजित किया जा रहा है। समायोजन उपरांत समस्त ड्यू कृषकों की जो भी लिमिट निकल रही है। उस किसान को पात्रता अनुसार नया केसीसी ऋण तीन-पांच दिन में वितरित कर दिया जाएगा।
सीईओ श्री सिंह ने बताया कि उक्त वितरण में ड्यू कृषकों को बीमा कंपनी से प्राप्त फसल बीमा क्लेम की पूर्ण राशि वापिस कर दी जावेगी। साथ ही कृषकों की यह मांग भी रहती है कि रबी फसल 28 मार्च तक तैयार होकर बाजार में विक्रय नहीं हो पाती है। इस कारण ड्यू डेट को 28 मार्च से बढ़ाकर 15 जून किया जाावे। अतः कृषक कालातीत न हो एवं उन्हें शासन की महत्वपूर्ण शून्य प्रतिशत योजना का लाभ मिलता रहे को दृष्टिगत रखते हुए खरीफ 2020 की प्राप्त फसल बीमा की राशि का समयोजन किया जाकर प्राप्त फसल बीमा की पूर्ण राशि कृषकों को वापिस की जा रही है। जिससे कृषकों की ऋण की चुकौत्ी दिनांक 28 मार्च से बढ़कर 15 जून हो जावेगी। इस स्थिति में कृषक के कालातीत नहीं होने की महत्वपूर्ण शून्य प्रतिशत योजना का लाभ भी जारी रहेगा।