Ujjain गायत्री शक्तिपीठ में नवसृजन के संकल्पों के साथ युवा प्रशिक्षक प्रशिक्षण शिविर संपन्न

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ उज्जैन मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय / 9893909059

अखिल विश्व गायत्री परिवार युवा प्रकोष्ठ द्वारा तीन दिवसीय युवा प्रशिक्षक प्रशिक्षण शिविर उज्जैन मैं आयोजित किया । जिसमें मध्य प्रदेश के 25 जिलों के 94 युवा सम्मिलित हुए। शिविर प्रांतीय कार्यालय भोपाल अनुशासन में एवं उज्जैन शतीपीठ के सहयोग से आयोजित हुआ जिसमें शांतिकुंज हरिद्वार के राष्ट्रीय युवा संयोजक केदार प्रसाद दुबे ,मध्य प्रदेश के प्रभारी योगेंद्र गिरी, शान्तिकुंज प्रतिनिधि आशीष सिंह के मार्गदर्शन में संपन्न हुआ।


 विश्व के 6 अरब लोगों के भाग्य और भविष्य को उज्जवल बनाने के महान अभियान मैं अपनी प्रतिभा का नियोजन कर, प्रचलित प्रवाह को बदल कर नई धारा प्रवाहित करने का संकल्प लेकर गायत्री शक्ति पीठ से युवाओं ने अपने अपने जिले के लिए विदाई ली।


युवाओं को विदाई पाथेय देते हुए शांतिकुंज हरिद्वार के प्रमुख वक्ता केदार प्रसाद दुबे जी ने कहा वर्तमान में जिए और उसका सदुपयोग करें। प्रवाह पतित ना हों, धारा चीर कर आगे बढ़ने का साहस बनाए रखें‌। साधना से हर समर में विजय मिलेगी‌।


अपने विदाई उद्बोधन में राजेश पटेल उपझोन समन्वयक उज्जैन ने युवाओं को बताया कि सर्वस्वीकृति ईश्वरीय कार्य में जरूरी है ।आप सब ईमानदारी और सचरित्रता के बल पर हर क्षेत्र में सफल होंगे ऐसी हमारी शुभकामनाएं के साथ परम पूज्य गुरुदेव की ओर से विश्वास दिलाते हैं।


 प्रांतीय समन्वयक युवा प्रकोष्ठ विवेक चौधरी मध्य प्रदेश ने सभी युवाओं को युगाधिपति भगवान महाकाल की जयकार के साथ “हम जिएंगे मरेंगे इस धरा के लिए -इस वतन के लिए” का संकल्प दिलाया। 


25 जिलों के प्रतिनिधि इस प्रशिक्षण में शामिल रहे।  3 दिन के विचार विमर्श और मार्गदर्शन के आधार पर अपने क्षेत्र अर्थात लगभग आधे मध्यप्रदेश में -135 युवा चेतना शिविर, 951 ग्राम तीर्थ परिब्रज्या , 205 युवा मंडल, 351स्वावलंबन प्रशिक्षण शिविर, 3700 नये साधक, 8000 से अधिक पौधे मोक्षधामों पर रोपण,367 माता भगवती बाड़ी(छोटी घरेलू नर्सरी),166 नई बाल संस्कार शालाएं,180 जल स्रोतों के संरक्षण संवर्धन काम,13 हजार से अधिक घरों में गंगाजल देव स्थापना के सामूहिक संकल्प लिए गए।

इस अवसर पर प्रांत युवा प्रकोष्ठ के अमर धाकड़, मनोज तिवारी, दिलीप कटारे, सूरज सिंह परमार, रमेश नागर एवं देवेंद्र श्रीवास्तव का प्रमुख रूप से सहयोग रहा।यह जानकारी युवा प्रकोष्ठ गायत्री शक्ति पीठ भोपाल के रमेश नागर द्वारा दी गई।