Ujjain क्षिप्रा शुद्धिकरण के लिए कराएंगे वैज्ञानिक परीक्षण – मुख्यमंत्री

क्षिप्रा शुद्धिकरण से बढ़कर पुण्य का कोई कार्य नहीं : मुख्यमंत्री श्री चौहान
खान नदी का प्रदूषित जल क्षिप्रा में मिलने से रोका जाएगा
सप्तसागर के संरक्षण के लिए किए जाएंगे प्रयास
मुख्यमंत्री श्री चौहान से उज्जैन के साधु समाज के प्रतिनिधि मंडल ने की भेंट

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ उज्जैन मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय/ 9893909059


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है किपवित्र नगरीउज्जैन मेंक्षिप्रा नदी के शुद्धिकरण से बढ़कर मेरे लिए पुण्य का कोई कार्य नहीं है। खान नदी का प्रदूषित जल क्षिप्रा में मिलने से रोकने के लिए कार्य-योजना बनाई जाएगी। वैज्ञानिक परीक्षण कराकर क्षिप्रा का शुद्धिकरण तेजी से कराएंगे। उन्होंने कहा कि संतों के सुझावों एवं भावनाओं का पूरा आदर करते हुए सर्वेक्षण कराया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान शनिवार को मुख्यमंत्री निवास पर उज्जैन के साधु समाज के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शॉल-श्रीफल भेंटकर और पुष्पाहार पहनाकर साधु- संतों का सम्मान किया। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि साधु-संतो की भावनाओं का पूरी तरह आदर करते हुए हम सब मिलकर क्षिप्रा नदी के शुद्धिकरण का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि सर्वे के बाद विकल्पों पर विचार-विमर्श किया जाएगा। उज्जैन में सप्तसागर के संरक्षण के भी प्रयास किए जाएंगे। सप्तसागर पर किसी का कब्जा नहीं होने दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान को महंत डॉ. रामेश्वर दास ने बताया कि इंदौर से छोड़े जाने वाला प्रदूषित जल खान नदी के माध्यम से क्षिप्रा में मिलता है। इससे क्षिप्रा का जल प्रदूषित होता है। उन्होंने कहा कि क्षिप्रा नदी मोक्षदायिनी है। क्षिप्रा को प्रदूषण से बचाने के लिए उन्होंने त्रिवेणी से कालियादेह-महल तक 13 किलोमीटर लंबी खुली नहर बनाने की मांग रखी। उन्होंने कहा कि उज्जैन के 147 स्थानों के विकास के लिए पर्याप्त धनराशि मुहैया कराई गई है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री श्री चौहान को धन्यवाद दिया।

प्रातिनिधि मंडल में महंत डॉ. रामेश्वरदास, महंत श्री रामेश्वरगिरी, महंत श्री राघवेन्द्र दास, महंत श्री देवगिरी, महंत श्री काशीदास, महंत श्री प्रेमगिरी, महंत श्री रामचंद्रदास, महंत श्री सेवानंद गिरी, महंत श्री विशालदास, महंत श्री दिग्विजयदास, महामंडलेश्वर स्वामी ज्ञानदास, राजेश त्रिवेदी,  मुकेश जोशी एवं  विवेक जोशी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।