Ganjbasoda धर्मांतरण के विरोध मेंं किया सेंट जोसेफ स्कूल का घेराव

विश्व हिंदू परिषद-बजरंगदल, हिंदू जागरण मंच, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के संयुक्त तत्वाधान में सनातनियों ने मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन देकर की कार्रवाई की मांग, हिंदूवादी संगठनों के नेताओ व प्रशासनिक अधिकारियों ने आक्रोशित नागरिकों को समझाइश देकर कराया शांत, अन्यथा हो सकता था बड़ा हादसा, स्कूल प्रबंधन ने पूर्व की चेतावनियों के बाबजूद भी स्कूल में जारी रखी गतिविधियां,

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ गंजबासौदा रविकांत उपाध्याय/ 

{ आक्रोशित नागरिकों को समझाइश देते संगठनों के पदाधिकारीगण व पुलिस प्रशासन }

विदिशा जिले के गंजबासौदा में बरेठ रोड स्थित सेंट जोसेफ स्कूल प्रबंधन द्वारा बीते दिनों विद्यालय में पढ़ने वाले 8 छात्रों का धर्म परिवर्तन कराये जाने का मामला सामने आने के बाद हिंदुओं में आक्रोश देखने मिल रहा है। पूर्व में अलग अलग सामाजिक संगठनों द्वारा इस मामले में ग्यापन देकर कार्रवाई की मांग की चुकी है इसके बाद भी प्रसासन द्वारा ठोस कार्रवाई न किये जाने से माहौल बिगड़ रहा है।

गुस्साए सनातनियों ने सोमबार को एकत्रित होकर विश्व हिंदू परिषद-बजरंगदल, हिंदू जागरण मंच, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के संयुक्त तत्वाधान में कार्यकर्ताओं के साथ ने सेंट जोसेफ स्कूल का घेराव किया और जमकर नारेबाजी करते हुये प्रबंधन पर कार्यवाही की मांग की है।

 

सेवा की भूमि का व्यवसायिक उपयोग

इसके बाद एसडीएम रोशन राय को एक ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम सौंपा है। ज्ञापन में मांग की गयी है कि जिन 8 बच्चों का धर्म परिवर्तन किया गया है उसकी जांच कर नाम सार्वजनिक किये जायें। कांवेट एवं सेंट जोसेफ विद्यालय के छात्रावास में पढ़ने वाले स्थानीय एवं अन्य राज्यों के विद्यार्थियों की सूची बनवायी जाये। साथ ही ज्ञापन में आरोप लगाया गया है, कि जिस भूमि पर विद्यालय बना है वह भूमि सेवा प्रकल्प के रुप में अस्पताल बनाने हेतु दी गयी थी उसकी जां हो तथा हिंदू विद्यार्थियों को मिशनरी स्कूलों में उनकी धार्मिक मान्यता अनुसार तिलक लगाने, कलावा बांधने आदि से न रोका जाये बल्कि उन्हें चर्च ले जाकर ईसाई धर्म की प्रार्थना आदि न करवायी जायें। एवं इन स्कूलों को मिलने वाली विदेशी फंडिग की भी जांच की जाये

बही इस धर्मांतरण के मामले के संबंध में संबंधित संस्था से पक्ष जानने का प्रयास किया, लेकिन कोई संपर्क नही हो पाया।