उदयपुर महाशिवरात्री वार्षिक मेले की तैयारियों में जुटा प्रशासन, एसडीएम ने सौपीं जिम्मेदारियां

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ गंजबासौदा मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय/9893909059

समीपस्थ विश्व प्रसिद्ध श्रीनीलकण्ठेश्वर महादेव मंदिर परिसर ग्राम उदयपुर में 1 मार्च को लगने वाले महाशिवरात्रि मेले की तैयारियों को लेकर एसडीएम रोशन राय की अध्यक्षता में प्रशासनिक अधिकारियों की एक बैठक पटवारी सभाग्रह में आयोजित की गई। बैठक में नायब तहसीलदार दिनकर चतुर्वेदी, देहात थाना उपनिरीक्षक महेन्द्र शाक्य सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारीगण, मेला समिति सदस्यगण व ग्रामीण मौजूद थे।

दो साल बाद लगेगा मेला, कोविड गाइडलाइन का होगा पालन

बैठक में एसडीएम रोशन राय ने सभी विभागीय अधिकारियों को मेले की तैयारियों को लेकर निर्देशित किया। करीब दो वर्ष बाद बड़े स्तर पर शिवरात्रि पर्व के दौरान उदयपुर में मेला आयोजित किया जा रहा है। बीते दो सालों में कोरोना संक्रमण के चलते मेले पर पूर्ण रूप से रोक लगी हुई थी। लेकिन इस वर्ष मेले में कोविड गाइडलाइन का पालन भी प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा सख्ती पूर्वक कराया जाएगा।
ज्ञात हो कि उदयपुर स्थित श्री नीलकण्ठेश्वर महादेव मंदिर शिवरात्रि के पर्व पर आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से श्रद्धालु दर्शनों के लिए आते हैं। मेले के सफल आयोजन को लेकर प्रशासन द्वारा प्रतिवर्ष तैयारी की जाती है। जिसको लेकर प्रशासन द्वारा मंदिर समिति एवं स्थानीय अधिकारियों के साथ बैठक लेकर उन्हे उनकी जिम्मेदारियों से अवगत कराया जाता है और मेले को पूर्ण कराने में वह अपना सहयोग देते हैं।

 

अलग अलग रहेगी निकासी व प्रवेश की व्यवस्था

मंदिर परिसर में तीनों ओर से निकास, गर्भग्रह की सीढिय़ों से देहरी अनुपातिक रूप से अधिक ऊंचाई है जिसको चढऩे में बच्चों, बुजुर्गों एवं महिलाओं को परेशानी होती है। उसमें गत वर्ष की तरह चढ़ाई के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के निर्देशन में सुविधाजनक लोहे की सीडिय़ों से अंदर जाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं। मंदिर परिसर के गेट नंबर 1 में पुरूषों एवं महिलाओं को अलग अलग से अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी। मंदिर के अंदर बने हुए शिवलिंग के दायी ओर बने गेट नंबर 2 से महिला एवं शिवलिंग के बायी ओर के गेट से पुरूषों का प्रवेश रहेगा। गेट नंबर 4 से महिलाएं एवं पुरूषों की निकासी रहेगी। इस दौरान किसी भी प्रकार की परेशानी श्रद्धालुओं को न हो इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस को भी निर्देशित किया गया है।
विद्युत विभाग को सौपीं जिम्मेदारी
विद्युत विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि 24 फरवरी से 5 मार्च तक मंदिर परिसर में नियमित शाम 6 से रात्रि 11 बजे तक बिजली व्यवस्था सुचारू रूप से चालू रखें। मेले में बिजली कटौती नहीं होना चाहिए। ताकि श्रद्धालुओं को परेशानी न हो। बिजली विभाग सारी तैयारियों को मेले से पूर्व कर ले और विद्युत लाइन में आने वाली खराबियों को तत्काल प्रभाव से दुरूस्त करने के लिए योग्य लाइन मैनों की ड्यूटी भी मेला स्थल पर लगायें।

नपा पर रहेगी साफ-सफाई व पेयजल की व्यवस्थाएं

नगर पालिका सीएमओ को 28फरवरी से मंदिर परिसर एवं मेला स्थल पर सफाई व्यवस्था के लिए आवश्यक सफाई कामगारों की ड्यूटी पेयजल की व्यवस्था कराए जाने के लिए निर्देशित किया गया है। साथ ही बाहर से आए हुए श्रद्धालुओं की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए रेडीमेड शौंचालय रखबाने सहित फायर गाड़ी और पीने के पानी के लिए पर्याप्त टेंकरों की व्यवस्था कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं।

मेले में 12 सीसीटीव्ही कैमरे रखेंगे निगरानी, सुरक्षा के रहेंगे पूर्ण प्रवंध
मंदिर में सीसीटीव्ही कैमरे लगवाने की व्यवस्था जनपद पंचायत को सौंपी गई है। गत वर्ष की तरह इस बार भी सीसीटीव्ही कैमरों की मदद से निगरानी रखी जाएगी। जनपद पंचायत द्वारा मंदिर परिसर में इन सीसीटीव्ही कैमरों को लगवाया जाएगा। साथ ही मेले में आने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए अतिरिक्त महिला पुलिस के साथ ग्राम एवं नगर रक्षा समिति के सदस्यों की भी ड्यूटी लगाई जाएगी।
मेले की तैयारियों लेकर हुई इस समीक्षा बैठक में तहसीलदार, नायब तहसीलदार, मुख्य नगर पालिका अधिकारी, लोक निर्माण विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, जनपद सीईओ, मप्र विद्युत वितरण कंपनी, राजस्व विभाग, परियोजना अधिकारी एकीकृत महिला बाल विकास बासौदा एवं त्योंदा, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी त्योंदा, प्रभारी स्वास्थ्य अधिकारी बासौदा सहित सरपंच ग्राम पंचायत उदयपुर भी मौजूद रहे।
शराब दुकानें रहेंगी
बंदशिवरात्रि मेले के अवसर पर पहली बार एसडीएम द्वारा शराब दुकानें बंद करने के लिए निर्देशित किया है। ज्ञात हो कि शिवरात्रि मेले के दौरान शराब दुकानें खुली रहतीं थी। जिससे लोग वहां पर शराब पीकर मेले में पहुंचते थे और अक्सर विवाद की स्थिति निर्मित हो जाती थी। लेकिन इस वर्ष एसडीएम द्वारा बरेठ एवं उदयपुर में शराब दुकानें बंद करने के लिए आबकारी विभाग को निर्देशित किया है।