माँ-बेटी और बहनों की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता – मुख्यमंत्री 

महिला अपराधों के प्रति हमारा ज़ीरो टॉलरेंस
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ऊर्जा महिला डेस्कों को प्रदान किए 100 दोपहिया वाहनरैली को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना
असली हीरो अभियान में तीन लघु फिल्मों का किया लोकार्पण, महिलाओं ने संभाली मुख्यमंत्री श्री चौहान की सुरक्षा

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ भोपाल मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय / 9893909059


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि माँ-बेटी और बहनों की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा अनेकों अभियान संचालित किए जा रहे हैं। महिला अपराधों के प्रति हमारा जीरो टॉलरेंस हैं। बेटियों के साथ अभद्रता करने वालों को सीधे फाँसी के फंदे पर चढ़ाने का कानून प्रदेश की विधानसभा ने देश में सबसे पहले बनाया था।

मुख्यमंत्री श्री चौहान अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रदेश के दूरस्थ अंचलों के थानों की ऊर्जा महिला डेस्क को 100 दोपहिया वाहन वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्मार्ट उद्यान से ऊर्जा महिला डेस्कों की दोपहिया वाहनों की रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महिला सुरक्षा के लिए चलाए जा रहे “असली हीरो अभियान” से समाज को जोड़ने के लिए सत्य घटनाओं पर आधारित तीन लघु वृत्त चित्रों का लोकार्पण भी किया।

 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रदेश की महिलाओं को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि हमारा यह फैसला था कि पुलिस फोर्स में 30 प्रतिशत भर्तियाँ महिलाओं की होगी। यह गर्व का विषय है कि बेटियाँ पूरी क्षमता के साथ सुरक्षा के इस दायित्व को पूर्ण गंभीरता और वीरता के साथ निभा रही हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी महिला सशक्तिकरण के सशक्त पक्षधर रहे हैं। उनके द्वारा इस दिशा में अनेकों योजनाएँ संचालित की गईं है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में महिला थाने स्थापित किए गए हैं। महिला हेल्प डेस्क बनाई गई हैं। साथ ही ऊर्जा महिला हेल्प डेस्क स्थापित की गईं हैं। थानों में महिलाएँ बिना किसी झिझक के एफआईआर लिखवा सकें, इस उद्देश्य से महिला हेल्प डेस्क स्थापित की गईं हैं। महिला पुलिस कर्मियों द्वारा अपना यह दायित्व निभाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिला अपराध से संबंधित कोई सूचना मिले तो घटना स्थल पर पहुँचने में देरी न हो, इस उद्देश्य से ही ऊर्जा महिला हेल्प डेस्क को दोपहिया वाहन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। प्रदेश में 700 थानों में ऊर्जा महिला हेल्प डेस्क बनाई गई हैं। उनमें से 100 डेस्क को दोपहिया वाहन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। शेष 600 महिला हेल्प डेस्क को दो चरणों में वाहन उपलब्ध कराए जाएंगे। माँ-बहन और बेटी की सुरक्षा में राज्य सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

 

मुख्यमंत्री श्री चौहान की पहल पर महिला सुरक्षा के लिए आरंभ हुए हैं कई नवाचार– डीजीपी श्री सक्सेना

पुलिस महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना ने कहा कि महिला सुरक्षा मुख्यमंत्री श्री चौहान की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री चौहान के निर्देशन और मार्गदर्शन में कई नवाचार हुए हैं, जिनमें प्रत्येक जिले में महिला थाने की स्थापना, 700 थानों में ऊर्जा महिला डेस्क की स्थापना, पुलिस इकाइयों में झूलाघर की स्थापना, 1090 महिला हेल्प लाइन स्थापित करना, गुम नाबालिग बालक-बालिकाओं को खोजने के लिए ऑपरेशन मुस्कान तथा परेशन हेल्पिंग हेंड आरंभ करना सम्मिलित हैं। साथ ही महिला सुरक्षा के क्षेत्र में आम जनता द्वारा सराहनीय कार्य करने पर उन्हें असली हीरो के रूप में सम्मानित करना और महिलाओं के लिए प्रीलिटीगेशन ऑनलाइन हेल्प प्रारंभ की गई है। महिला सुरक्षा के लिए पुलिस कर्मियों के कौशल उन्नयन और क्षमता संवर्धन की गतिविधियाँ भी संचालित की जा रही हैं। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक महिला सुरक्षा श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव ने भी संबोधित किया।

सत्य घटनाओं महिला सुरक्षा पर केन्द्रित लघु फिल्मों का लोकार्पण

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा भोपाल, सागर और विदिशा की सत्य घटनाओं पर आधारित और महिला सुरक्षा पर केन्द्रित तीन लघु वृत्त चित्र का लोकार्पण किया गया। भोपाल के असली हीरो श्री मनोज गायकवाड, ऑटो चालक हैं। उन्हें मंदसौर की 13 वर्षीय अकेली बालिका द्वारा दिल्ली जाने की ट्रेन के संबंध में पूछने पर संदेह हुआ। श्री गायकवाड ने इसकी सूचना आईएसबीटी चौकी पर पदस्थ आरक्षक सुनील राठौर को दी। इससे बालिका को हरियाणा में नौकरी लगवाने के नाम पर तस्करी कर ले जाये जाने से बचाया जा सका।

दूसरी लघु फिल्म में असली हीरो सागर जिले की आपचंद निवासी श्रीमती श्रीबाई हैं। जिन्होंने ज्यादति के डर से भागी 22 वर्षीय महिला की संदेहास्पद स्थिति को भाँपते हुए शोर मचाया, जिससे आरोपी भाग गए। श्रीबाई ने साहस और मानवीयता का परिचय देते हुए पीड़िता को अपने घर में आश्रय दिया तथा कोटवार और सरपंच को सूचना देकर अपराध पंजीबद्ध कराया।

तीसरी लघु फिल्म में असली हीरो विदिशा जिले की श्रीमती आरती शर्मा हैं। उन्हें एक बालिका ने जब परिजन द्वारा शारीरिक रूप से परेशान करने की बात बताई तो श्रीमती आरती शर्मा ने पूरे परिवार का विरोध सहकर इसके खिलाफ आवाज उठाई। श्रीमती शर्मा ने विदिशा जिले के महिला थाने पहुँचकर परिजन के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध कराया। इस घटना के कारण श्रीमती आरती शर्मा को उसके पति ने भी छोड़ दिया। इसके बाद भी श्रीमती शर्मा ने बालिका को साहस दिया और सच के लिए खड़े होने के लिए प्रेरित किया।

स्मार्ट उद्यान से पुलिस कंट्रोल रूम होते हुए स्टेडियम पहुँची दोपहिया वाहन रैली

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा फ्लेग ऑफ की गई महिला दोपहिया वाहन रैली स्मार्ट पार्क से आरंभ होकर डिपो चौराहा, अटल पथ, प्लेटिनम प्लाजा, रोशनपुरा चौराहा, पुलिस कंट्रोल रूम होते हुए मोतीलाल नेहरू स्टेडियम पहुँची। वाहन रैली के स्मार्ट पार्क से रवाना होने पर पुलिस बैंड द्वारा महिला सशक्तीकरण पर केन्द्रित गीत की धुन बजाई गई।

महिलाओं ने संभाली मुख्यमंत्री श्री चौहान की सुरक्षा
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला पुलिस ने संभाली जिम्मेदारी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सुरक्षा का दायित्व अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को महिला पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों ने संभाला। एसीपी कोतवाली सुश्री बिट्टू शर्मा मुख्यमंत्री श्री चौहान के कारकेड की प्रभारी थीं। रक्षित निरीक्षक श्रीमती इरशाद अली ने मुख्यमंत्री श्री चौहान का वाहन चलाया। सायबर सैल की इंस्पेक्टर सुश्री रेनू मुराब ने पायलट गाड़ी की कमान संभाली। मिसरोद थाने की सब इंस्पेक्टर सुश्री अर्चना तिवारी ने आज वीआईपी शैडो की जिम्मेदारी संभाली।

कारकेड में वार्नर का दायित्व हनुमानगंज थाने की उप निरीक्षक सुश्री कंचन राजपूत तथा हबीबगंज थाने की उप निरीक्षक सुश्री सुनीता भलराय पर था और पायलेट का दायित्व थाना बजरिया की उप निरीक्षक सुश्री भावना शर्मा के पास। थाना कमला नगर की उप निरीक्षक सुश्री आकांक्षा शर्मा, एसटीएफ की निरीक्षक सुश्री कंचन राजपूत, चूना भट्टी थाने की उप निरीक्षक सुश्री गौसिया सिद्दीकी, हबीबगंज थाने की उप निरीक्षक सुश्री रिद्धी शर्मा, शाहपुरा थाने की उप निरीक्षक सुश्री संध्या शुक्ला, अशोका गार्डन थाने की उप निरीक्षक सुश्री योगिता जैन, शहजहानाबाद थाने की उप निरीक्षक सुश्री कल्पना गुर्जर भी मुख्यमंत्री श्री चौहान की सुरक्षा में तैनात रहीं। इसके साथ ही उप निरीक्षक सुश्री मंजू, उप निरीक्षक सुश्री मोनिका अबरियो, उप निरीक्षक सुश्री कोमल गुप्ता, उप निरीक्षक मेघा गोहिया, उप निरीक्षक सुश्री मेघा उदेनिया ने भी महत्पूर्ण दायित्व निभाए।

उल्लेखनीय है कि कारकेड प्रभारी एसीपी कोतवाली सुश्री बिट्टू शर्मा अंतर्राष्ट्रीय स्तर की जूडो खिलाड़ी रही हैं। उन्होंने 25 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लिया और 15 अंतर्राष्ट्रीय पदक प्राप्त किए। इसी प्रकार मुख्यमंत्री श्री चौहान का वाहन चलाने वाली श्रीमती इरशाद अली ने भोपाल के ट्रेफ्रिक प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सुश्री रेनू मुराब यू.एन. पीस कीपिंग मिशन तथा सीबीआई में रह चुकी हैं और फर्स्ट शैडो का दायित्व निभाने वाली सुश्री अर्चना तिवारी मिसरोद थाने में ऊर्जा महिला डैस्क की प्रभारी हैं।