Bhopal केंद्रीय जेल की बंदी बहिनें बनेंगी पुरोहित, गायत्री परिवार ने किया प्रशिक्षण प्रारंभ

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ भोपाल मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय / 9893909059

 

केंद्रीय जेल भोपाल में 50 बंदी बहनों को गायत्री परिवार भोपाल की महिला प्रकोष्ठ की प्रशिक्षित बहनों द्वारा युगपुरोहित, स्वास्थ्य संवर्धन, व्यक्तित्व विकास,सुगम संगीत, एवं स्वावलंबन का एक मासीय प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रशिक्षण के बाद प्रमाणपत्र दिए जाएंगे और जेल से स्वतंत्र होने के बाद बंदी बहिन पुरोहित कर्म कर सकेंगी।

इस सत्र का शुभारंभ शांतिकुंज हरिद्वार से पधारे केदार प्रसाद दुबे, श्रीमती नीलम दुबे एवं दिनेश नरगावे जेल अधीक्षक महोदय के द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ किया गया।

इस अवसर पर केदार प्रसाद दुबे  ने बंदी बहनों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें अपना मूल्य स्वयं समझना चाहिए, ईश्वर ने प्रत्येक व्यक्ति को भिन्न योग्यता प्रदान की है। उस योग्यता का विस्तार कर जीवन का विकास करना हमारा लक्ष्य है। गायत्री परिवार के संस्थापक पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने 21वी सदी को नारी सदी कहा है । उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार द्वारा वर्ष 2022- 23 को नारी सशक्तिकरण वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है अतः हमें देश में नारियों के विकास को प्राथमिकता देना होगी।

इससे पूर्व अतिथि उद्बोधन में जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बहनों को कहा कि आप सौभाग्यशाली हैं , इस प्रशिक्षण के लिए आपका चयन ईश्वरीय प्रेरणा से हुआ है । यह प्रशिक्षण आपके जीवन में एक नया प्रकाश लाएगा । यह स्थान इन प्रशिक्षण सत्रों के कारण आश्रम जैसा बन रहा है अतः गुरु शिष्य परंपरा के अनुसार आपको इन प्रशिक्षकों के माध्यम से अधिकतम ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास करना होगा।

श्रीमती नीलम दुबे ने प्रशिक्षक बहनों का मंगल तिलक कर शांतिकुंज का शुभ आशीर्वाद प्रदान किया।

शिवाभिषेक का किया आयोजन

इस अवसर पर केन्द्रीय जेल में शिव अभिषेक का कार्यक्रम रखा गया जिस में गायत्री परिवार के द्वारा प्रशिक्षित बंदी जनों पुरोहित की संयुक्त टीम ने शिव अभिषेक एवं पूजन संपन्न कराया।

बेलपत्र का किया रोपण

केंद्रीय जेल के शिव प्रांगण में बेलपत्र का पौधा रोपित किया। इस अवसर पर जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे, उपजेल अधीक्षक खरे जी, दिनेश मुवेल ,उपेंद्र मिश्रा,अर्चिता मेडम, गायत्री परिवार के श्रीमति नीलम दुबे, ओ पी श्रीवास्तव, रामचंद्र गायकवाड, ,श्रवण गीते, सुरेश कावड़कर आरआर चडोकर श्रीमती शोभा रस्तोगी, राधा गीते, कला गीतकर ,सुशीला चडोकार , रमेश नागर एवं प्रशिक्षण के संयोजक सदानंद आंबेकर विशेष रूप से उपस्थित रहे।

यह जानकारी भोपाल शक्तिपीठ के वरिष्ठ कार्यकर्ता रमेश नागर द्वारा दी गई।