Bhopal डेंगू-मलेरिया की रोकथाम पर दें जोर – स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने राज्य टॉस्क फोर्स कमेटी की बैठक में दिये निर्देश

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ भोपाल मध्यप्रदेश रविकांत उपाध्याय / 8085883358

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा है कि मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया आदि की रोकथाम के लिये अपनाये जाने वाले ऐहतियाती उपायों को अमल में लाने के लिये पहल करें। उन्होंने कहा कि बीमारी फैलने के पहले रोकथाम के उपाय किये जाने से बीमारी पर कारगर नियंत्रण पाया जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी मंत्रालय में राष्ट्रीय वैक्टरजनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम की राज्य टॉस्क फोर्स कमेटी की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि डेंगू मच्छर का लार्वा साफ पानी में पनपता है। उन्होंने कहा कि वर्षा काल में घरों के आस-पास जहाँ साफ पानी जमा हो जाता है, वहाँ डेंगू मच्छर पैदा होते हैं और डेंगू फैलता है। घरों के आस-पास और अन्य स्थानों में पानी जमा नहीं होने दें। ऐसी स्थिति में डेंगू मच्छर के पैदा होने की संभावना नहीं होगी और डेंगू पर कारगर नियंत्रण प्राप्त किया जा सकता है। आम नागरिकों को डेंगू की रोकथाम के उपाय अपनाने के लिये कहा जाये। पानी एकत्र करने के बर्तनों को खुला नहीं रखें। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मलेरिया, चिकुनगुनिया आदि की रोकथाम के लिये किये जाने वाले ऐहतियाती उपायों को अपनाने के लिये नागरिकों से आग्रह किया जाये। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि जन-जागरूकता के लिये आवश्यक प्रचार सामग्री संबंधित विभागों के अधिकारियों तक पहुँचाए, जिसे वे अधीनस्थ अधिकारी-कर्मचारियों के माध्यम से क्षेत्र में आम नागरिकों तक पहुँचा सकेंगे।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि पंचायत, ग्रामीण विकास, महिला-बाल विकास, वन, शिक्षा आदि विभागों का अमला नागरिकों से सीधे सम्पर्क में रहता है। इन विभागों के मैदानी अधिकारी-कर्मचारियों की बीमारियों की रोकथाम के लिये जन-जागरूकता बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने बैठक में उपस्थित स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य विभागों के अधिकारियों को इस दिशा में पहल करने के लिये कहा। एमडी एनएचएम श्रीमती प्रियंका दास ने मलेरिया, फाइलेरिया, डेंगू/चिकुनगुनिया, जापानीज एन्सेफेलाइटिस बीमारियों की स्थिति पर प्रेजेंटेशन दिया। स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. सुदाम खाड़े और टॉस्क फोर्स कमेटी के सदस्य उपस्थित थे।