Vidisha कृषि विभाग के एसीएस ने किया नवीन कृषि उपज मंडी का औचक निरीक्षण, बीज प्रक्रिया केन्द्र का लिया जायजा

VIDISHA madhya pradesh RAMAKANT UPADHYAY 9893909059

  मध्यप्रदेश किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव अशोक वर्णवाल ने विदिशा नवीन कृषि उपज मंडी का भ्रमण कर यहां संचालित व्यवस्थाओं का औचक निरीक्षण किया है। भ्रमण के दौरान उन्होंने कृषकों से संवाद कर मंडी में मिल रही सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की है। उन्होंने कहा कि कृषक बंधुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना ना करना पड़े इस तरह के प्रबंध कृषि उपज मंडी में सुनिश्चित किए जाएं। नवीन कृषि उपज मंडी के भ्रमण के दौरान कृषि विभाग के एसीएस श्री अशोक वर्णवाल ने मंडी परीसर में टूटी-फूटी व क्षतिग्रस्त सड़क पर असंतोष जाहिर करते हुए सड़कों की मरम्मत कराने के निर्देश मौके पर दिए गए हैं ताकि मंडी परिसर में अपनी उपज ट्रैक्टर ट्राली से लेकर आने वाले कृषकों को मंडी में पहुंचने में किसी भी प्रकार की परेशानी ना हो। इसके अलावा उन्होंने मंडी परिसर में साफ सफाई के प्रबंध सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

    भ्रमण के दौरान कलेक्टर उमाशंकर भार्गव समेत कृषि विभाग के अधिकारीगण, नवीन कृषि उपज मंडी के अधिकारियों के अलावा अन्य मौजूद रहे।

   कृषि विभाग के एसीएस अशोक वर्णवाल ने सर्वप्रथम नवीन कृषि उपज मंडी में पहुंचकर मंडी परिसर में धान लेकर आए कृषकों से संवाद किया और उनकी धान की उपज की गुणवत्ता स्वयं अपने हाथों से परखी। उन्होंने कृषि उपज मंडी में जिस जगह कृषकों की उपज की ट्रालियां खड़ी होती हैं वहां पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया और मौके पर मौजूद अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी उनके द्वारा दिए गए है। इसके उपरांत एसीएस श्री वर्णवाल ने नवीन कृषि उपज मंडी में संचालित कैंटीन का भी औचक निरीक्षण किया है। उन्होंने कैंटीन में सस्ती दर पर किसानों को परोसे जाने वाले  भोजन व्यवस्था की जानकारी ही प्राप्त नहीं की बल्कि भोजन करने एवं बनाने वालों से संवाद भी किया।

    कृषि विभाग के एसीएस अशोक वर्णवाल के द्वारा मंडी परिसर में मौजूद मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला में पहुंचकर संचालित व्यवस्थाओं का जायजा लेने के साथ साथ मंडी बोर्ड कार्यालय का भी औचक निरीक्षण कर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं।

   एसीएस अशोक वर्णवाल मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला की व्यवस्थाओं का जायजा लेने के दौरान प्रयोगशाला के कर्मियों से संवाद कर कितने कृषकों के द्वारा मिट्टी परीक्षण कराया गया है से संबंधित जानकारी प्राप्त की। उन्होंने मौके पर ही कार्यालय रिकॉर्ड से कृषकों के मोबाइल नंबर निकलवा कर स्वयं उनके मोबाइल नंबर से संपर्क कर उनके द्वारा पूर्व में मिट्टी परीक्षण कराए जाने की जानकारी प्राप्त की। एसीएस श्री अशोक वर्णवाल के द्वारा मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला में मिट्टी परीक्षण का लाभ प्राप्त कर चुके विदिशा विकासखण्ड के ग्राम बरखेड़ा (कछवा) के कृषक श्री रविन्द्र सिंह दांगी से मोबाइल पर बात की है। ग्राम इमलिया के कृषक श्री रणवीर सिंह राजपूत से संवाद किया और मिट्टी परीक्षण के उपरांत किन-किन खाद का उपयोग कर रहे है और उसकी मात्रा पहले से कम है या ज्यादा की जानकारी प्राप्त की। द्वय कृषकों के द्वारा मिट्टी परीक्षण से हुए लाभ की जानकारी देते हुए बताया गया कि रासायनिक खाद का उपयोग विगत वर्षो की तुलना में कम किया है।

                एसीएस वर्णवाल ने किसानो की फसल तौल व्यवस्था, टोकन वितरण के अलावा शेडो में रूकने की भी जानकारी प्राप्त की है। इस दौरान उन्होंने कहा कि किसानो के हितो में जो भी निर्णय लें उसकी जानकारी किसानो तक अवश्य पहुंचे। उन्होंने कहा कि कृषि उपज मंडी और तिलहन संघ के संयुक्त समन्वय से जो निर्णय लिए जाते है उनका पालन कराया जाना सुनिश्चित हो।

                एससीएस श्री वर्णवाल ने कृषि उपज मंडी के समीप संचालित एसएनएस पेवर एग्रो क्लिनिक प्लांट में पहुंचकर क्रियान्वित व्यवस्थाओं का भी अवलोकन किया है। निरीक्षण अवलोकन के दौरान अनाज तिलहन व्यापार उत्थान कल्याण संघ के अध्यक्ष राधेश्याम महेश्वरी, विदिशा एसडीएम गोपाल सिंह वर्मा, कृषि उपज मंडी के सचिव  कमल बगवैया के अलावा कृषि विभाग के अपर संचालक, संयुक्त संचालक, उप संचालक, सहायक संचालक समेत अन्य विभागो के अधिकारी एवं कृषकगण मौजूद रहें।

बीज प्रक्रिया केन्द्र का जायजा

किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव अशोक वर्णवाल ने आज विदिशा जिले के प्रवास दौरान मध्यप्रदेश राज्य बीज एवं फार्म विकास निगम द्वारा संचालित बीज प्रक्रिया केन्द्र का जायजा लिया है। इस अवसर पर बीज निगम के एमडी श्री तरूण राठी, कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव भी साथ मौजूद रहें।

एसीएस श्री वर्णवाल ने बीज प्रक्रिया की कार्यप्रणाली की विस्तृत जानकारी प्राप्त की। उन्होंने बीज निगम के माध्यम से वितरित किए जाने वाले बीजो से उत्पाद फसलों की मात्रा के संबंध में भी पूछताछ की है। उन्होंने विदिशा जिले में शरबती गेंहू के रकवे के संबंध में गहन चर्चा की है।

एसीएस श्री वर्णवाल ने कहा कि हम सबका यही लक्ष्य होना चाहिए कि किसानो को उनकी मांग के अनुरूप उच्च गुणवत्तायुक्त रबी खरीफ फसलों के बीज सुगमता से उपलब्ध कराना है। बीज अकेले प्रदाय करने तक निगम का अमला तक सीमित ना रहें बल्कि किसानो के द्वारा बोई गई फसलों का भी समय-समय पर अवलोकन करें ताकि प्रदाय बीज के उत्पादन के आसार कैसे दिख रहे है। उन्होंने प्रति हेक्टेयर बीज में पिछले तीन वर्षा के तुलनात्मक उत्पादन की भी जानकारी प्राप्त की है।

बीज निगम के एमडी तरूण राठी ने बीज प्रक्रिया केन्द्र के माध्यम से संपादित किए जाने वाले कार्यो, उपलब्धियों की जानकारी से अवगत कराया है। एसीएस के द्वारा बीज निगम भवन की मरम्मत कार्य व पुताई कराने के निर्देश दिए गए साथ ही बीज की थप्पी रेक के नीचे सुरक्षा के दृष्टिकोण से अभी प्लास्टिक के सांचे लगाएं जा रहे है जो ज्यादा दिन तक नही चल पा रहे है उनकी जगह रेल्वे की अनुपयोगी स्लेव जो पटरी के नीचे बिछी होती है सुगमता से प्राप्ति होती है तो उनका उपयोग किया जाए। निरीक्षण के दौरान बीज निगम कार्यालय में संधारित विभिन्न पंजियों का अवलोकन कर निरीक्षण किया गया।

इस अवसर पर कृषि विभाग के संयुक्त संचालक बीएल बिलैया, उप संचालक केशव खपड़िया, उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक केएल व्यास के अलावा विभिन्न विभागो के अधिकारी तथा बीज निगम के अधिकारी, कर्मचारी मौजूद रहे।