Gujrat नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतीय शिक्षा पद्धति में करेगी युगांतरकारी परिवर्तन – स्कूली शिक्षामंत्री इंदरसिंह परमार

गांधीनगर में स्कूली शिक्षा मंत्रियों के दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में की भागीदारी 

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ गांधीनगर गुजरात रविकांत उपाध्याय / 8085883358

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की अध्यक्षता में गुजरात के गांधीनगर में “स्कूली शिक्षा मंत्रियों का दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन” 1 और 2 जून 2022 को हुआ। स्कूली शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) और सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार देश के सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के शिक्षा मंत्रियों के साथ राष्ट्रीय सम्मेलन में सहभागिता करने पहुँचे। राज्य मंत्री श्री परमार ने सम्मेलन में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के संदर्भ में अपने विचार व्यक्त किए। श्री परमार ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर लागू करने में मध्यप्रदेश देश का अग्रणी राज्य है। पाठ्यक्रम में परिवर्तन, शिक्षा पद्धति में बदलाव, शिक्षकों का प्रशिक्षण सहित अनेक नवाचार राष्ट्रीय शिक्षा नीति में मध्यप्रदेश में किए जा रहें हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति से बनते-बदलते-बढ़ते भारत की शिक्षा प्रणाली को नया कलेवर मिल रहा है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतीय शिक्षा पद्धति में युगांतरकारी परिवर्तन करेगी।

स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बताया कि सम्मेलन के पहले दिन केंद्रीय कौशल विकास। उद्यमिता तथा इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर, केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती अन्नपूर्णा देवी और केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री डॉ सुभाष सरकार के नेतृत्व में विभिन्न राज्यों के शिक्षा मंत्रियों ने विद्या समीक्षा केंद्र, भास्कराचार्य राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुप्रयोग और भू-सूचना विज्ञान संस्थान, राष्ट्रीय फॉरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय और अंतरराष्ट्रीय ऑटोमोबाइल उत्कृष्टता केंद्र का भ्रमण किया। संस्थानों से जुड़ी विभिन्न जानकारियों और स्कूली शिक्षा में उपयोगिता को अर्जित किया। 

राष्ट्रीय सम्मेलन में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के क्रियान्वयन की प्रक्रिया सहित इसे राज्यो में लागू करने पर विचार-विमर्श किया गया। सम्मेलन के दूसरे दिन गांधीनगर स्थित महात्मा मंदिर प्रांगण में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को लागू करने की दृष्टि से देश में शैक्षणिक व्यवस्था को मजबूत बनाने, स्कूलों में कौशल विकास, डिजिटल पहल आदि के बारे में व्यापक चर्चा हुई। सम्मेलन में सभी राज्यों के शिक्षा सचिवों ने भी सहभागिता की। प्रदेश से प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी, संचालक राज्य शिक्षा केंद्र धनराजू एस और अपर मिशन संचालक लोकेश जांगिड़ सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहें।