मध्यप्रदेश के स्वदेशी उत्पादों की दिल्ली में धूम

आत्म-निर्भर एमपी की थीम पर देश की राजधानी दिल्ली में “मध्यप्रदेश कला उत्सव” शुरू

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ नई दिल्ली रविकांत उपाध्याय/ 

देश की राजधानी दिल्ली में  प्रदेश के बुनकरों एवं कारीगरों के बनाए उत्पाद आसानी से मिलेंगे। आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिए दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित मध्यप्रदेश भवन में  प्रदेश के 66 वें स्थापना दिवस पर 1 नवंबर को मध्यप्रदेश कला उत्सव की शुरुआत हुई। मध्यप्रदेश भवन नई दिल्ली के आवासीय आयुक्त पंकज राग ने दीप जला कर कला उत्सव का शुभांरभ किया। मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड की प्रबंध संचालक श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव भी उपस्थित थी।

एक नवंबर से 11 नवंबर तक आयोजित कला उत्सव में राजधानीवासी मध्यप्रदेश के मिट्टी से बने और स्वदेशी उत्पाद खरीद सकेंगे। कला उत्सव मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम, मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड और मध्यप्रदेश माटीकला बोर्ड के तत्वावधान में हो रहा है। उत्सव में मृगनयनी, कबीरा और विंध्या वैली के हैंडलूम, खादी, और मिट्टी से बने उत्पाद एवं अन्य घरेलू सामान भी उपलब्ध है।

स्वदेशी उत्पाद की धूम

उत्सव में “आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश” की थीम के तहत खादी वस्त्र एवं ग्रामोद्योग सामग्री खरीदने का सुनहरा अवसर उपलब्ध है। इनमें खादी वस्त्र जैसे शर्ट, कुर्ता, जैकेट, पायजामा, रेशमी साड़ियाँ, सूट एवं कंबल, शॉल, दरी और बेडशीट आकर्षक डिजाइन में उपलब्ध है। साथ ही मसाले, पापड़, शैम्पू, साबुन, तेल, शहद, चटाई और अन्य घरेलू उत्पादों की गुणवत्तापूर्ण वैरायटी भी है।