Bhopal मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सुबह-सवेरे बैठक बुलाकर डीजीपी से कहा, अपराधियों को करें नेस्तनाबूत

गुना जिले के आरोन के जंगलों में शिकारियों के हमले में पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद एक्शन में सरकार

पुलिस का कार्य जनता के लिये शांति पूर्ण व्यवस्था सुनिश्चित करना

कानून-व्यवस्था और जन-कल्याण हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण
आगामी सप्ताह पूरे राज्य में जन-कल्याण के कार्यक्रमों की श्रृंखला
मिशन नगरोदय 17 मई को होगा प्रारंभ

स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @ भोपाल मध्यप्रदेश रमाकांत उपाध्याय / 9893909059

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कानून- व्यवस्था और जन-कल्याण सबसे महत्वपूर्ण हैं। यह सरकार की प्राथमिकता है। वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा प्रदेश के सभी कमिश्नर्स और पुलिस महानिरीक्षकों से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक जिले में पूरे समन्वय के साथ प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी जनता के कल्याण के कार्यों को सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज प्रात: निवास पर आयोजित बैठक में कानून -व्यवस्था से चर्चा प्रारंभ की। उन्होंने कहा मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता कानून- व्यवस्था है। पुलिस का कार्य है कि सभी नागरिकों के लिए शांति से जीने की व्यवस्था करें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अपराधियों को नेस्तनाबूद किया जाए। कोई भी माफिया पनपना नहीं चाहिए। प्रदेश में हजारों एकड़ भूमि माफियों से मुक्त करवाई गई हैं। इस भूमि के उपयोग की योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि शिकार करने और अवैध शराब का कारोबार करने वालों को क्रश किया जाए। उन्होंने कहा कि आज प्रात: बुलाई गई इस बैठक को एक नए उजाले के रूप में अंगीकार कर अधिकारी सार्थक भूमिका का निर्वाह करें। योग, ध्यान और शारीरिक व्यायाम, सुबह की सैर के साथ स्वस्थ रहते हुए आमजन के हित में सक्रिय रूप से सभी कार्य करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेरा मुख्यमंत्री होना और आपका पद पर होना तभी सार्थक है जब हम जनसेवा पर पूरा ध्यान दें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गुना की घटना से मैं बहुत बेचैन हूँ। मेरा संकल्प है किसी भी अपराधी को नहीं छोड़ा जाएगा। गुना के प्रकरण में अपराधियों के विरुद्ध ऐसी सख्त कार्रवाई होगी जो इतिहास में दर्ज होगी। शिकार करने वालों और अन्य अपराधों को अंजाम देने वालों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई हो। इसके लिए पुलिस महानिदेशक से लेकर थाना स्तर तक निर्देश दिए गये हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पुलिस विभाग में निरंतर समीक्षा का कार्य हो। अपराधियों को चिन्हित किया जाए। ऐसा प्रयास हो कि अपराध घटित ही न हों।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कुछ जिलों में पुलिस द्वारा अच्छी कार्रवाई हुई है। इसके लिए संबंधित अधिकारी और स्टाफ बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि हमेशा क्विक एक्शन होना चाहिए। अपराधों को प्रभावी ढंग से रोकने की व्यवस्था हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं के प्रति अपराधों पर भी नजर रखें। प्रत्येक जिले में नियमित रूप से कार्य विश्लेषण किया जाए। अपराध नियंत्रण की शीघ्र ही पुनः समीक्षा की जाएगी। पुलिस महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना भी इस अवसर पर उपस्थित थे।