मन ही बंधन ओर मुक्ति का कारण है : शास्त्री

रायसेन जिले के देवनगर में हो रहा है श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन
स्वास्तिक न्यूज़ पोर्टल @देवनगर रायसेन रमाकांत उपाध्याय/


रायसेन जिले के देवनगर स्थित श्री वीर बालाजी हनुमान मंदिर में पितृपक्ष के उपलक्ष्य में पितृ मोक्षके लिए संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। अखिल भारतवर्षीय धर्म संघ रायसेन के जिला अध्यक्ष ज्योतिषाचार्य पंडित रामाधर व्यास शास्त्री के मार्गदर्शन में आयोजित कथा में प्रतिदिन दोपहर 2 बजे से 5 बजे तक श्रीधाम बृंदावन, नीलकंठेश्वर मंदिर उदयपुर के कथा वाचक स्वर भूषण पंडित नवीन कृष्ण शास्त्री के श्रीमुख से कथा का वाचन हो रहा है।

गुरुवार को कथा का वाचन करते हुए कथा व्यास नवीन शास्त्री ने कहा कि मन ही मनुष्य की मुक्ति व बंधन का कारण है। मन को साधने से ही सब सध जाता है। मन ही विषयों में फँसकर संसार की मोह माया में उलझाए रखता है। यदि मोक्ष की प्राप्ति करना है तो मन को नियंत्रित करना ही पड़ेगा। उन्होंने एक संतजी, धोबी और गधा के प्रसंग के माध्यम से इसे विस्तार से बताया।

वैदिक सनातन संस्कृति पर आघात
कथा व्यास ने कहा कि थोड़ा समय निकालकर भावी पीढ़ी को मार्गदर्शन दें उन्हें भारतीय संस्कृति वैदिक सनातन धर्म के बारे में बताएं उन्हें संस्कार दें। बर्तमान में भयंकर तरीके से सनातन पर आघात किया जा रहा है। अंग्रेजी माध्यम के स्कूल आधुनिक शिक्षा दे रहे हैं लेकिन हमारी प्राचीन संस्कृति से दूर कर रहे हैं।
कथा के दौरान संगीतमय भजनों पर श्रोता मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। कथा 27 सितंबर तक आयोजित की जाएगी।
देवनगर के समस्त भक्तगणों ने धर्मलाभ लेने की अपील की है।